उत्तर प्रदेश बाजार मौसम

मौसम के प्रकोप से आलू के पिछेती झुलसा रोग से बचाव के उपाय

मौसम के प्रकोप से आलू के पिछेती झुलसा रोग से बचाव के उपाय

रायबरेली 19 जनवरी, 2021
आलू एक नकदी फसल के साथ-साथ अत्यन्त संवेदनशील फसल है, जिस पर मौसम की प्रतिकूलता का प्रभाव शीघ्र हो जाता है विगत कई दिनों में तापमान में गिरावट आयी है शीत लहर का प्रकोप चल रहा है, जिसके कारण पाला पड़ने की सम्भावना बढ़ गयी है। ऐसी स्थिति में पाला पड़ने पर आलू फसल को काफी क्षति होने की सम्भावना बनी हुई है, क्योंकि पौधें की शिराओं में पानी जम जाता है, जिससे उसका आयतन बढ़ता है और शिराय फट जाती है। शिराओं के फटने से ऊपर का भाग सूख जाता है एवं सलने लगता है। ऐसी स्थिति होने पर किसान ‘‘आलू फसल में प्रत्येक सप्ताह सिंचाई करते रहे तथा खेत के पश्चिमी किनारे पर आग सुलगाकर घुंआ करते रहे,‘‘ जिससे आलू की फसल पर पाले का प्रभाव न पड़ने पाये।
इसके अतिरिक्त पिछेती-झुलसा रोग के नियन्त्रण हेतु किसान मैन्कोजेब/प्रोपीनेब/क्लोरोलोंनील युक्त फफूंदनाशक दवा का रोग सुग्राही किस्मों पर 2-25 किग्रा0 दबा 1000 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर छिड़लाव तुरन्त करे। साथ ही साथ जिन खेतों में बीमारी प्रकट हो चुकी हो उनमें किसी भी फफूंदनाशक – साईमोक्सेेनिल $ मैन्कोजेब का 3.0 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर (1000 लीटर पानी) की दर से अथवा फेनोमिडोन $ मैनकोजेब का 3.0 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर (1000 लीटर पानी) की दर से अथवा डाईमेथोमार्फ 1.0 किलोग्राम $ मैन्कोजेब का 2.0 किलोग्राम (कुल मिश्रण 3.0 किग्रा0) प्रति हैक्टेयर (1000 लीटर पानी) की दर सेे छिड़काव करें, यदि बारिश की सम्भावना बनी हुई है, तो फूदनाशक के साथ स्टिकर (चिपचिपा) को 0.1 प्रतिशत की दर से मिलाकर छिड़काव करें। किसानों को इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि एक ही फफूॅदनाशक का बार-बार छिड़काव न करें।

Related posts

वैक्सीन को लेकर भ्रम फैलाने वाले तत्वों से सावधान रहें : शिवम मिश्रा(नेता भैया)

TV 18 News

बीएचयू ट्रौमा सेंटर में स्थापित पीएम केयर ऑक्सीज़न प्लांट हुआ क्रियाशील

TV 18 News

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के सलाहकार की धर्मपत्नी का निधन———

TV 18 News

Leave a Comment

error: Content is protected !!